दिल्ली-NCR वालों के लिए अगले 24 घंटे बेहद खतरनाक, सांस लेना होगा मुश्किल

1 month ago 15
Delhi pollution

मौसम वैज्ञानिकों के मुताबिक आनेवाले एक-दो दिन में हवा की रफ्तार और दिशा भी कुछ इस तरह करवट लेगी कि राजधानी में हवा की गुणवत्ता और गंभीर स्तर पर पहुंच जाएगी.

नई दिल्ली: दिल्ली-एनसीआर (Delhi-NCR) में ये वीकेंड लोगों की सांसों पर भारी पड़ सकता है. अब तक दिल्ली में प्रदूषण का बेहद खराब स्तर पर बना हुआ था लेकिन शनिवार को इसके सिवीयर की श्रेणी में जाने की आशंका है. लिहाजा वीकेंड में घर से बाहर निकलने की गलती लोगों के लिए दमघोंटू साबित हो सकती है. 

एक तरफ जहां पंजाब और हरियाणा में पराली जलाने की घटनाएं रुकने का नाम नहीं ले रहीं वहीं मौसम वैज्ञानिकों के मुताबिक आनेवाले एक-दो दिन में हवा की रफ्तार और दिशा भी कुछ इस तरह करवट लेगी कि राजधानी में हवा की गुणवत्ता और गंभीर स्तर पर पहुंच जाएगी.

हवा की घटने से प्रदूषण बढ़ेगा 

पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय में हवा की गुणवत्ता पर नजर रखनेवाली एजेंसी सफर के मुताबिक हरियाणा, पंजाब और पड़ोसी क्षेत्रों में पराली जलाने की घटनाएं बढ़ी हैं. इतना ही नहीं शनिवार से हवा की दिशा उत्तर-पश्चिमी की जगह पूर्वी होने के आसार हैं. हवा की रफ्तार 15km/hr की जगह 5km/hr तक रह जाएगी. जिससे हवा में मौजूद प्रदूषक उड़ नहीं पाएंगे. सफर के पूर्वनुमान को ध्यान में रखते हुए EPCA (सुप्रिम कोर्ट की निगरानी में बनी कमेटी) ने दिल्ली-NCR के लिए प्रदूषण का अलर्ट जारी किया है.

ये भी पढ़ें- 'बाबा का ढाबा' को मिला 'मैनेजर', जानें कितने बदल गए कांता प्रसाद के दिन

घर से न निकलने की सलाह

शनिवार को दिल्ली-NCR की हवा की गुणवत्ता बेहद खराब से सिवीयर की श्रेणी में पहुंच जाएगी ऐसे में लोगों के साथ-साथ हाई प्रदूषण को कंट्रोल करने में लगी सभी एजेंसियों को GRAP नियमों का सख्ती से पालन करने के निर्देश दिए गए हैं. वहीं लोगों को जब तक जरूरी ना हो घर से बाहर नहीं निकलने और अगर किसी काम से बाहर निकलना पड़ जाए तो मास्क लगाने की सलाह दी गई है. 

शुक्रवार को ऐसे थे हालात

दिल्ली पॉल्यूशन कंट्रोल कमेटी (DPCC) के अनुसार दिल्ली की हवा शुक्रवार को 'खतरनाक' की श्रेणी में पहुंच गई. सुबह सात बजे राजधानी का अलीपुर इलाका 442 AQI के साथ सबसे प्रदूषित था. रोहिणी में 391 और द्वारका में 390, आनंद विहार में 387 जबकि आरके पुरम में AQI 333 दर्ज किया गया. राजधानी के आसपास के इलाकों की बात करें तो शुक्रवार सुबह गाजियाबाद में AQI 380, ग्रेटर नोएडा में 377 और नोएडा में 380 रिकॉर्ड किया गया. केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के मुताबिक ITO पर पीएम 2.5 का स्तर 356 रहा. यह 'बहुत खराब श्रेणी' है.

Read Entire Article