वैज्ञानिकों का कमाल: फिल्मों की तरह अब खुद से भर जाएंगे घाव, जुड़ जाएंगे अंग!

1 month ago 27
स्टेम सेल्स

अभी तक फिल्मों में आपने देखा होगा कि किसी व्यक्ति के अंदर सुपर नेचुरल पॉवर होती है या वैज्ञानिकों के कमाल से उसके अंदर ऐसी स्टेम सेल विकसित कर दी गई होती है, जो खुद ब खुद शरीर के घावों को भर लेती है. हाल ही में विन डीजल अभिनीत फिल्म ब्लडशूट में भी डीजल का किरदार कुछ ऐसा ही था.

मेलबर्न: अभी तक फिल्मों में आपने देखा होगा कि किसी व्यक्ति के अंदर सुपर नेचुरल पॉवर होती है या वैज्ञानिकों के कमाल से उसके अंदर ऐसी स्टेम सेल विकसित कर दी गई होती है, जो खुद ब खुद शरीर के घावों को भर लेती है. हाल ही में विन डीजल अभिनीत फिल्म ब्लडशूट में भी डीजल का किरदार कुछ ऐसा ही था. लेकिन अब ये हकीकत होने जा रहा है. जी हां, ऐसा कमाल कर दिया है ऑस्ट्रेलियाई डॉक्टरों ने, जिन्होंने ऐसा स्टेम सेल विकसित कर लिया है, जो आपके कटे अंगों को भी दुरुस्त कर लेगा और घावों को भी खुद ब खुद भर लेगा.

स्मार्ट स्टेम सेल

वैज्ञानिक इसे अभी से स्मार्ट स्टेम सेल कह रहे हैं. यह स्टेम सेल इंसानों के शरीर से आसानी से निकाला जा सकता है. यह इंसान के शरीर में मौजूद वसा यानी फैट को रीप्रोग्राम्ड वर्जन है. फैट का रीप्रोग्राम्ड वर्जन ही स्टेम सेल कहलाएगा. इस स्टेम सेल की चूहों पर स्टडी की गई है, वहां पर इसकी सफलता ने साइंटिस्ट्स को रीजेनेरेटिव एबिलिटी वाले स्टेम सेल को लेकर उम्मीद जगाई है. यह स्टडी ऑनलाइन साइंस जर्नल साइंस एडवांस में प्रकाशित हुई है. इंसानों में प्रयोग करने से पहले साइंटिस्ट इस स्टेम सेल के कई और टेस्ट और रिसर्च करना चाहते हैं. 

गिरगिट की तरह कटे अंग फिर से उगा लेगा इंसान

यूनिवर्सिटी ऑफ न्यू साउथ वेल्स के प्रोफेसर जॉन पिमांडा ने कहा कि ये स्टेम सेल  घायल या चोट खाए टिश्यू यानी ऊतकों को खुद जोड़ने में मदद करता है. ये ठीक वैसा ही है जैसे गिरगिट अपना रंग बदलता है और पूंछ कटने पर वापस नई पूंछ निकल आती है. 

वन्यजीव प्रेमियों के लिए अनमोल है ये तस्वीर, इनमें से किसी के जाने से टूट जाएगी आखिरी कड़ी

भविष्य की तकनीकी

प्रोफेसर जॉन पिमांडा ने बताया कि ये भविष्य की टेक्नोलॉजी है. हम इसे इंसानों के उपयोग के लिए पूरी तरह से सुरक्षित करना चाहते हैं. जैसे ही हम इसकी सुरक्षा को लेकर पुख्ता होंगे हम इंसानों पर इसका क्लीनिकल ट्रायल शुरू करेंगे. हालांकि इसे विकसित करने में अभी कुछ साल और लगेंगे

Read Entire Article